Ketki Jani- First Indian Model with Alopecia.

Ketaki Jani : First Alopecian Model in India.

It is not important that I m holding a good government post. It is not important too that I m model and won many awards, titles and trophies. But it is rare that I have achieved so much inspite of being Hairless. I m India’s first Bald model to participate in national and international beauty pageants & win hearts, admiration & titles. I do & enjoy ramp walk for charity. I am a motivational speaker & a crusader with the mission of alopecia awareness. a pet lover & Columist . Not only that famous author & veteran journalist Mr. Praful Shah has written a docu-novel on my life, titled AGNIJA which means daughter of the fire. After a successful run in Gujarati, this book is coming out soon in Marathi, Hindi & English language . Soon Mr. Praful Shah Will be publishing one more book on me. This will be a motivational coffee table book called ‘BALD & BLESSED : Ketaki Jani Loves Alopecia. It will be very interesting to know fanatics & inspiring life journey of mine. Over to pride of Pune, Maharashtra & India : Through this article… Let Me Uncover Alopecia….

पढ़िए और Alopecia को जानिए….
सब ने मिलजुलकर चुप्पी साध ली, छुपाया रखा इसे…… लेकिन कब तक़ चलेगा ये?? सालों से वो हमारे बीच है लेकिन हमने उसे जानने की न उत्सुकता जताई और ना किसी ने ये सब बताने की हिम्मत की. मै उठाती हूँ आज परदा …. आप व Aelopecia ( अलोपेसिआ / ऊंदरी / इन्द्रलुप्त / कीड़ा लगना / चाई पड़ना / गंजापन ) के बीच से…!! क्यों कि मैं 8 साल पहले रोज रोज पलपल मरी हु इसकी वजह से…… मुझे ये होने के बाद पता चला कि, कम उम्र में जिसे ये होता है वैसे लडके लडकीयो को life partner नही मिल पाते इसकी वजह से और कई शादीशुदा लोगों की जिन्दगी में भूकंप आये हैं इसकी वजह से….. बहुत अरमानभरी जिंदगिया बरबाद हो रही है….. प्यार की जगह उन्हें एकलता मिलती है. आप ही तय करो की ये डिसऑर्डर की वज़ह से क्यों लाखों अरमान सुलग जाए ?? क्यों जिसके हिस्से ये आया है वो ना चाहते हुए भी ताउम्र विग / स्कार्फ़ / कैप या घर की चार दीवारी की क़ैद मै रहे ??? Alopecian होना उनकी मर्ज़ी नहीं मज़बूरी है। आओ , आप के आसपास कोई ऐसा है तो उसे हिम्मत दो बिना कोई बंधन खुले आकाश मै उड़ने की। – ये हेयर रिलेटेड प्रोब्लेम है जिसमे शरीर हेयर ग्रो करने से मना करता है , इन शोर्ट ये शरीर की हेयर बनाने के काम से घोषित की हुई हड़ताल है. yesss , ये ऑटोइम्म्युन डीसीस (autoimmune disorder ) है…… ( डायबिटीज , थाइरोइड ) की तरह. – ये प्रॉब्लम 2 टाइप मै होते है – १ , Rarest Rare रेरेस्ट रेयर लोगो के फॅमिली के सब सदस्यों को ये genetically जेनेटिकल कारण की वज़ह से आनुवंशिक होता है। ( 7 साल मै मैंने सिर्फ़ एक ( 1 ) ही फॅमिली ऐसी देखी है…. मतलब ये करोड़ो मै एकाद फॅमिली होगा शायद। 2 – दूसरा टाइप ये रैंडम किसी को भी अपनी गिरफ्त मै लेता है.

इसके 6 पेटा प्रकार है, उसमें ३ मुख्य १ – ऐलोपेसिआ ईराटा Alopecia Areata (AA) . इसमें सर के बाल के बिच बाल्ड ( बाल्ड )पैचेज होते है २ – ऐलोपेसिआ टोटालिस Alopecia Totalis (AT). इसमें पूरा सर बिना बाल होता है. ३ – ऐलोपेसिआ युनिवर्सलिस Alopecia Universalis (AU). इसमें पुरे शरीर मै कहीं भी बाल नहीं होते है. – ये जन्म से ले के मौत तक मतलब उम्र के कोई भी पड़ाव मै होता है. – इसकी शुरुआत सर के कोई भी हिस्से मै राउंड पैच से होती है. ( मै बालों मै हाथ फिरा रही थी तब राउंड फिंगर टिप्स पर बाल की जगह प्रॉपर स्किन का अहसास हुआ था. ) – ये क्यों होता है वो आज तक विश्व मै कोई जान नहीं पाया है. – आज तक इसके लिए कोई भी औषध मुकर्रर नहीं हो पाया है. इसके लिए मुझे जो औषध से बाल आये उसी के एप्लीकेशन से किसी और को भी हेयर आ जायेंगे वैसा तय नहीं है. ( डायबिटीज व थाइरोइड के सब दर्दी एक दवाई यूज़ कर सकते है , इसके नहीं ) – ये होने से आप की डे to डे लाइफ मै कोई तक़लीफ़ नहीं होती है. आप बिंदास्त जिंदगी जी सकते हो औरो की तरह. – लड़की को अगर जन्म से या बचपन से ये हुआ है तो उसकी शादीसुदा जिंदगी नॉर्मल लड़कियों जैसे ही बिता सकती है , बच्चे भी स्वस्थ व नॉर्मल होते है वो मैंने खुद देखा है. बिलकुल ऐसा ही viceversa लड़को को लागू पड़ता है. – ये contiguous या छूने से किसी को लग जाए वैसा डिसऑर्डर नहीं है. – इसकी वज़ह से शादीशुदा जिंदगी लेशमात्र डिस्टर्ब नहीं होती. – इसे एक्सेप्ट / स्वीकार करना ही इसके साथ जीने का एकमात्र व सब से अक्सीर इलाज़/Most Effective Medicine /अच्छा आईडिया है। – हेयर लॉस/ Aelopecia कैंसर की ट्रीटमेंट मै कीमोथेरेपी की वज़ह से भी होता है पर वो वापस आते है वो बहुधा तय होता है – स्ट्रेस / डिप्रेशन इस disorder की बहुत गंभीर साइड इफेक्ट है. Disorder शुरू होते ही ये जिसे huaa hai उसके मनो मस्तक मैं छाया रहता है, व्यक्ति ख़ुद को भी स्वीकार नहीं कर पाती ऐसे में लोगों का उसे डर लगने लगता है और वो isolated feel करता है, ये feeling इतनी strong होती है कि एक समय आता है वो लोगों से डरने लगता है और कोई कमनसीब आत्महत्या / suicide के दरवाजे तक़ पहुंच जाता है.. 😢😭 – लास्ट बट इम्पोर्टेन्ट बात , इसमें बाल उम्र के किसी भी पड़ाव मै वापस भी आ सकते है और ऐसा कई लोगो के साथ हुआ है , की उन्होंने आशा छोड़ दी हो और बाल फिर से आये हो वो भी बिना कोई दवाई के…..😊 So just Understand, Accept & Embrace Aelopecians……. क्योंकि उनके पास भी सिर्फ एक ही जिंदगी है जो कल हो ना हो 🙏🥰

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s